ALL उत्तर प्रदेश बिहार मध्य प्रदेश लेख कहानी कविता अन्य खबरें न्युज
वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने दुनिया की बाजार मे तेल के दामों मे गिरावट के बावजूद देश मे मूल्यवृद्धि पर मोदी सरकार पर किये सियासी प्रहार
June 16, 2020 • Brajesh Kumar Mourya • उत्तर प्रदेश
दैनिक अयोध्या टाइम्स संवाददाता प्रवीण कुमार यादव।।
प्रतापगढ़। लालगंज।। वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी ने देश मे डीजल और पेट्रोल की कीमतो मे दिनोदिन हो रही बढोत्तरी को चिंताजनक करार दिया है। प्रमोद तिवारी ने कहा कि ताजा पेट्रोलियम पदार्थो के मूल्य बढोत्तरी के तहत पेट्रोल इस समय लगभग अठहत्तर रूपये प्रति लीटर तथा डीजल लगभग अरसठ रूपये प्रति लीटर मे बिक्री किया जाना सरकार के तेल नियंत्रण क्षेत्र मे लगातार कुप्रबन्धन का नतीजा है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि जब अर्न्तराष्ट्रीय बाजार मे कच्चे तेल की कीमत लगातार गिर रही है तो देश मे किन परिस्थितियो मे पिछले सप्ताह पेट्रोल का दाम पांच रूपये प्रति लीटर तथा डीजल का दाम भी पौने पांच रूपये प्रति लीटर की बढोत्तरी कर किसानों तथा मध्यमवर्ग के लोगों पर मंहगाई थोपी जा रही है। उन्होनें कहा कि कृषि कार्य के लिए ट्रैक्टर, टयूबवेल व पम्पिंग सेट आदि मे डीजल का ही प्रयोग होता है। ऐसे मे प्रमोद तिवारी ने मोदी सरकार पर सत्ता मे आने के बाद डीजल मे आठ सौ उन्नींस फीसदी तथा पेट्रोल मे दो सौ अटठावन फीसदी उत्पाद शुल्क बढाने को भी गैरवाजिब फैसले कहा है। श्री तिवारी ने कहा कि कोरोना संकट के काल मे शहरी और ग्रामीण क्षेत्रो मे जहां किसान, मध्यमवर्ग, वेतनभोगी, मजदूर दो वक्त की रोटी के लिए परेशान है वहीं केन्द्र एवं प्रदेश सरकार जनता के जख्म पर मरहम लगाने की जगह आर्थिक रूप से परेशान लोगों का जख्म और गहरा कर रही हेै। श्री तिवारी ने सरकार से कहा है कि दुनिया की बाजार मे कच्चे तेल के दामो मे घटोत्तरी को देखते हुए वह हर कीमत पर पेट्रोल दाम बढोत्तरी को नियंत्रण मे ले और यदि पेट्रोल का आधारमूल्य सत्रह रूपये छान्नवे पैसे तथा डीजल का अठारह रूपये उन्चास पैसे है तो दोगुना मुनाफा भी सरकार कमाये तो इसकी कीमत ज्यादा से ज्यादा पेट्रोल की छत्तीस रूपये प्रति लीटर व डीजल की अडतीस रूपये प्रति लीटर भी सरकारी मुनाफे के लिए पर्याप्त है। उन्होने दाम बढोत्तरी पर तंज कसते हुए कहा कि तेल कंपनियां और सरकारी तंत्र तो मुनाफा कमाएं और देशवासी मंहगाई की मार झेले, यह भी केन्द्र एवं प्रदेश की सरकार के जनविरोधी चेहरे की असलियत उजागर कर रही है। श्री तिवारी ने सरकार से यह भी कहा कि देश की अर्थव्यवस्था कोरोना मे बचाने के लिए किसान तथा मध्यम वर्ग, वेतनभोगी और मजदूर एवं बेरोजगार को समय रहते आर्थिक सुविधाएं मुहैया कराई जाय तथा इन्हें प्रतिमाह दस हजार रूपये और कोरोना महामारी के जारी रहने की अवधि तक न्याय योजना के तहत साढे सात हजार रूपये प्रतिमाह भी प्रदान करे। प्रमोद तिवारी ने कहा कि इस समय देश के कोरोना संक्रमितो की संख्या तीन लाख बत्तीस हजार सात सौ तिरासी हो गई है। बकौल प्रमोद तिवारी आईसीएमआर की रिर्पोट के अनुसार इसका प्रभाव नवंबर माह के आस-पास तक होगा। इसे देखते हुए सरकार गरीब तबके के परिवार के भरण-पोषण के लिए सार्थक कदम उठाये। पूर्व राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी ने प्रधानमंत्री मोदी पर मंहगाई को लेकर सियासी व्यंगबाण छोडते हुए कहा कि पीएम कहा करते थे कि वह सौभाग्यशाली है, दुनिया की बाजार मे कच्चे तेल की कीमत गिर रही है। ऐसे मे मोदी जी तो सौभाग्यशाली बने किंतु देश की जनता पेट्रोल एवं डीजल के कीमत बढोत्तरी से आज दुर्भाग्यशाली हो गयी है। प्रमोद तिवारी के बयान को मीडिया प्रभारी ज्ञानप्रकाश शुक्ल ने सोमवार को यहां जारी विज्ञप्ति के जरिये दी है।।