ALL उत्तर प्रदेश बिहार मध्य प्रदेश लेख कहानी कविता अन्य खबरें न्युज
स्वास्थ्य विभाग को शासन से मिले दो वेंटीलेटर
May 22, 2020 • Brajesh Kumar Mourya • उत्तर प्रदेश
वेंटिलेटर मिलने से गंभीर मरीजों को नहीं करना होगा अब सैफई रैफर
पत्रकार :-प्रशान्त यादव
मैनपुरी हफ्ते भर में पूरी करा ली जाएगी इंस्टॉलेशन की प्रक्रिया जिला अस्पताल में ही कराए जाएगे स्थापित कोरोना संक्रमणकाल में जिले के लिए एक राहत भरी खबर आई है। शासन स्तर से मैनपुरी को दो वेंटिलेटर स्वीकृत हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग इन्हें अगले हफ्ते तक जिला अस्पताल कैंपस में स्थापित कराने की तैयारी में जुट गया है। इंस्टॉलेशन के लिए संबंधित कंपनी के इंजीनियरों से संपर्क किया जा रहा है। जिले में अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस 100 सैया अस्पताल का निर्माण भी हो चुका है। जिला अस्पताल को भी हाईटेक किया गया लेकिन वेंटिलेटर ना होने से मरीजों को मजबूरन सैफई रैफर करना पड़ता था। सीएमओ डॉ. ए.के. पांडेय का कहना है कि यह हमारे लिए बड़ी उपलब्धि है। अब मरीजों को जिला अस्पताल में ही बेहतर उपचार दिया जा सकेगा। इसके संचालन के लिए विशेषज्ञों की आवश्यकता होगी। प्रयास है कि अगले सप्ताह तक इंस्टॉलेशन पूरा करा लिया जाय क्या होता है वेंटीलेटर यह मशीन उन रोगियों की मदद करती है जो किसी भी कारण से अपने आप सांस नहीं ले पाते हैं। यह 2 तरह से काम करता है पहला फेफड़ों में जरूरत के अनुसार ऑक्सीजन पहुंचाना और दूसरा कार्बन डाइऑक्साइड को बाहर निकालना। इसका उपयोग उस वक्त किया जाता है जब रोगी को मौसमी इंफ्यूएंजा निमोनिया या फिर दूसरी सांस संबंधी बीमारियां होती हैं और वह सांस नहीं ले पाता है। तब कृत्रिम ढंग से उसे सांस दी जाती है।तैयार होगा अलग आईसीयू वार्ड सीएमओ डॉ. ए.के. पांडेय का कहना है कि वेंटीलेटरों के इंस्टॉलेशन के लिए एक सुरक्षित आईसीयू वार्ड की जरूरत होगी। इन मशीनों के संचालन के लिए अलग से विशेषज्ञ चिकित्सक और स्टाफ भी चाहिए। अस्पताल परिसर में जगह चयनित कर ली गई है। यहां इंस्टॉलेशन कराने के बाद विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम की मदद से संचालन कराया जाएगा।