ALL उत्तर प्रदेश बिहार मध्य प्रदेश लेख कहानी कविता अन्य खबरें न्युज दशहरा व दिवाली विशेष
पुलिस की मिली भगत से दबंगों के हौसले बुलंद एक ही परिवार के ६ लोगों को जान से मारने की कोशिश 
August 25, 2020 • Brajesh Kumar Mourya • उत्तर प्रदेश

मामला है थाना मिल एरिया जिला रायबरेली का जहां दबंगों ने एक ही परिवार के छे सदस्यों को मामूली सी बात पर धार दार हथियारों से लहूलुहान कर दिया
पीड़ित के परिवार का कहना है सबा D/O काशिम अली जो कि अपने घर की चौखट पर बैठ कर अपने पति से फोन पर बात कर रही थी तभी फुरकान S/O जलील अपनी मोटर साईकिल से तेज रफ्तार में घर के सामने से निकला जब सबा ने उससे बाइक तेज रफ्तार में चलाने को लेे कर उसे मना किया तो फुरकान गाली देता हुआ वहां से तो चला गया लेकिन कुछ ही देर बाद वह अपने साथियों के संग कुल्हाड़ी, डंडा, लोहे की रॉड और धार दार हथियार ले कर सबा के घर पर घुस गया और बिना कुछ कहे सुने अपने साथियों के साथ मिल कर पीड़ित सबा के परिवार पर हमला कर दिया।
दबंगों का कहना था कि सब को जान से मार दो कोई भी बचने न पाए ऐसा कहते हुए दबंगों ने पीड़िता के परिवार वालों को मारते मारते खून से तत्पथ और अधमरा कर दिया।
सोर की आवाज सुन कर जब मोहल्ले वाले एकत्रित होने लगे तो   दबंगी मोहल्ले वालों को आता देख वहां से भाग निकले।
पीड़ित के परिवार वालों ने 112 पर कई बार मदत के लिए कॉल की किन्तु मौके पर पुलिस नहीं पहुंची, परिवार वालों की हालत बिगड़ता देख मोहल्ले वासियों द्वारा घायलों को टैंपो में जैसे तैसे बिठा कर सभी को थाने ले जाया गया घायलों कि स्थिति बिगड़ती देख  थाने से सभी को उपचार के लिए जिला अस्पताल रायबरेली भेज दिया गया है। जहां पर उनका उपचार चल रहा है सभी के सर फूटे हुए है किसी को तेरह टांके लगे है तो किसी को दस।
जब हमारी टीम ने मौके पर पहुंच कर जिला अस्पताल में घायलों से बात की तो पता यह चला कि थाना मिल एरिया द्वारा मामूली धाराओं में मुकदमा पंजीकृत किया गया किन्तु अपराधी अब भी खुले आम घूम रहें हैं अब तक कि किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।
परिवार वालों की माने तो पुलिस द्वारा दबंगों से पैसे खा कर उनको बचाने के लिए पीड़ितों पर सुलह के लिए दबाव बनाया जा रहा है,
पीड़ित परिवार की बेटी ने हमारे चैनल के माध्यम से माननीय मुख्यंत्री योगी आदित्यनाथ जी से इंसाफ़ कि गुहार लगाई है।
अब देखना ये है कि ऐसे में पीड़ित परिवार को न्याय मिलता है या मुद्दे को दबा दिया जाता है।