ALL उत्तर प्रदेश बिहार मध्य प्रदेश लेख कहानी कविता अन्य खबरें न्युज
पानी की टंकी की क्षमता ना बढ़ाए जाने पर लोग परेशान
June 1, 2020 • Brajesh Kumar Mourya • उत्तर प्रदेश
*ब्यूरो विनय सिंह बाराबंकी*
सिद्धौर बाराबंकी।नगर पंचायत सिद्धौर में लगभग 20 वर्ष पूर्व पानी की टंकी का निर्माण प्रशासन द्वारा नगर पंचायत वासियों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने के उद्देश्य कराया गया था। लेकिन प्रशासन द्वारा पानी की टंकी की छमता नहीं बढ़ाई गई है। जिससे नगर पंचायत वासियों के सामने पेयजल की समस्या उत्पन्न हो रही है। सुबह को 2 घंटे और शाम को 2 घंटे पानी की आपूर्ति की जाती है। बाकी पूरा दिन हैंडपंप के भरोसे रहना पड़ता है। स्थानीय लोगों द्वारा इसकी शिकायत कई बार उच्च अधिकारियों से की गई लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई।
    नगर पंचायत सिद्धौर में जल निगम द्वारा लगभग 20 वर्ष पूर्व पानी की टंकी का निर्माण नगर पंचायत में निवास करने वाले लोगों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने के उद्देश्य से कराया गया था।जिस समय पानी की टंकी का निर्माण कराया गया था। उस समय नगर पंचायत में लगभग 12 हजार की जनसंख्या निवास करती थी। लेकिन आज 20 हजार से अधिक जनसंख्या नगर पंचायत में निवास कर रही है। फिर भी स्वच्छ पेयजल के लिए मात्र एक पानी की टंकी  नगर में है।आज तक इसकी क्षमता तक नहीं बढ़ाई जा सकी है। इसके अलावा सांसद विधायक निधि और जल निगम द्वारा लगभग 50 इंडिया टू मार्का हैंडपंप लगाए गए हैं। जिसमें लगभग 18 हैंडपंप मरम्मत योग्य हैं। नगर पंचायत प्रशासन द्वारा पानी की आपूर्ति सुबह 6 बजे से 8  बजे तक और शाम 5  बजे से 7 बजे तक की जाती है। बाकी पूरा दिन पानी की आपूर्ति बंद रहती है। जिसके चलते लोगों को काफी समस्या का सामना करना पड़ता है। नगर पंचायत में सिद्धेश्वर वार्ड, मालवीय नगर, हटिया, उत्तरी अंसारी, दक्षिणी अंसारी, पूरे मक्का, नया पुरवा, अमहट, पूरे लंबौआ सहित कुल 11 वार्ड है। अधिशासी अधिकारी सिद्धौर पंकज श्रीवास्तव का कहना है कि नगर पंचायत के सभी वार्डों में पेयजल की  समस्या नहीं है। सुबह-शाम रोस्टर के हिसाब से पानी की आपूर्ति की जाती है। इसके अलावा लगभग 50 इंडिया टू मार्का  हैंडपंप लगे हैं। यदि कोई हैंडपंप खराब होने की सूचना मिलती है तो उसे तत्काल सही कराया जाता है।