ALL उत्तर प्रदेश बिहार मध्य प्रदेश लेख कहानी कविता अन्य खबरें न्युज दशहरा व दिवाली विशेष
मुरादाबाद के सालवा ब्लॉक छजलैट में पंचायत ने लिया बडा फैसला नट समाज के मृत व्यक्ति को दफनाया नही जायेगा बल्कि उसका देहसंस्कार किया जाएगा
May 21, 2020 • Brajesh Kumar Mourya • उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद के एक गाँव में पंचायत हो रही थी,,एक पेड़ के नीचे भरी पंचायत में ऐसा निर्णय लिया जा रहा था कि अब इस गाँव में बसे हुए नट समाज के किसी भी मृत व्यक्ति को दफन न करके उसका दाह संस्कार किया जाएगा। नट समाज की इस पंचायत में शामिल समाज के सभी परिवारों को जिनमे नट समाज की महिलायें और पुरुष भी शामिल थे ,पंचायत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए ग्राम प्रधान पति भी मौजूद थे जिन्होंने पंचायत में ही कहा कि आप समाज की मुख्य धारा से जुड़िये,,क्यूंकि नट समाज के लिए पंचायत थी लिहाजा पंचायत के दौरान नट समाज के लोगों ने पंचायत कर रहे ग्राम प्रधान पति से भरी पंचायत में सवाल किया कि आज आपकी बात मन रहे हैं,,कल आप न रहे तो हमे तो जलाने से भी मना कर देंगे,,भरी पंचायत में ग्राम प्रधान पति ने अपने इलाके में रहने वाले इन परिवारों को भरी पंचायत में भरोसा दिया कि जब तक मैं हूँ तब तक तो भरोसा कीजिये, मेरी सर्व समाज से बात हो गयी है आपके साथ सभी खड़े हैं,,,जिसके बाद पंचायत का नजारा ही बदल गया,,पंचायत में बैठे पूरे नट समाज की क्या महिलाये ,क्या पुरुष सभी ने ताली बजाकर इस निर्णय का स्वागत व समर्थन किया।
नट समाज में किसी के मरने के बाद शव को दफनाने की बरसों पुरानी परम्परा थी लेकिन मुरादाबाद में हुई इस पंचायत में ये निर्णय ले लिया गया है कि नट समाज में किसी को मृत्यु के बाद कब्रिस्तान में दफन के लिए नहीं बल्कि शमशान में चिता के द्वारा अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जाएगा।
पेड़ के नीचे एक पंचायत हो रही है,,ये पंचायत मुरादाबाद के थाना छजलैट के गांव सलावा में हो रही है,,ये उत्तर प्रदेश की ये ऐसी पंचायत हो रही है कि ग्राम प्रधान इनको समझा रहा है कि जब तुम हिन्दू हो तो क्यों दफन होते हो,,समाज की मुख्यधारा से जुडो,,ये पंचायत उस उपेखित समाज की थी जिसे नट समाज के नाम से जाना जाता है,,और अपने इलाके में बसे हुए इन परिवारों का दुःख दर्द समझते हुए ग्राम प्रधान पति महेंद्र सिंह रंधावा और नट समाज के मुखिया जयपाल की उपस्थिति में एक घण्टे से ज्यादा समय तक चली इस पंचायत में प्रधान पति महेंद्र सिंह रंधावा ने तर्क देते हुए भरी पंचायत में कहा कि आप मुख्यधारा में आइये ,आप हिन्दू हो,,देवी देवता को मानते हो,,प्रधान पति महेंद्र सिंह रंधावा ने भरी पंचायत में ये भी कहा कि अपने आपको छोटा मत समझो,,कोई छुआछूत नहीं है,,,कोई छोटा बड़ा नहीं है,,, महेंद्र सिंह रंधावा ने भरी पंचायत में नट समाज के सवालों का भी जवाब देते हुए कहा कि मैं प्रधान रहूँ या न रहूँ लेकिन तुम्हारे साथ हमेशा रहूंगा और विशवास दिलाया कि जो विरोध करते थे उन्होंने भी स्वीकृति दे दी है ! पंचायत में जिसकी सभी बात पर हामी भरी जा रही थी महेंद्र सिंह रंधावा ने जब इस नट समाज से कहा कि दफन होगे तो बीमारी उभर आयेगी,,लेकिन जब शरीर अग्नि में जल जाएगा तो उस शरीर के सभी जीवाणु नष्ट हो जायेंगे,,,भरी पंचायत को महेंद्र सिंह रंधावा ने कोरोना महामारी के चलते मूंह पर मास्क लगाने,,दूर दूर रहने के लिए भी अपील की !
मुरादाबाद के इस गाँव सलावा में हुई इस पंचायत को देख और सुनकर आप ये तो समझ गए होंगे कि ये हिन्दू समाज का हिस्सा नट समाज के उत्थान को लेकर हो रही है,,और इस पंचायत के बाद ये पूरा नट समाज अपनी सदियों पुरानी शव को दफनाने की परम्परा को बदलना चाहते हैं और मृत व्यक्ति का संस्कार अब चिता में जलाकर करना चाहते हैं। जिसका पंचायत में उपस्थित समाज के सभी लोगों ने विश्वास जताते हुए ताली बजाकर समर्थन किया। हालांकि पंचायत में कुछ ऐसे सवाल भी इस नट समाज के लोगों ने उठाये कि हम आपसे तो सहमत हैं ,,आगे हमारा कौन होगा कि न हम दफन हो पायें और श्मशान में कहा जाए कि ये तुम्हारा नहीं है,,पंचायत में ये बड़ा सवाल था भरी पंचायत में नट समाज मुखिया जयपाल को महेंद्र सिंह रंधावा प्रधान ने कहा नट समाज के लोग अपने को हिन्दू समाज से अलग न समझें जब इस समाज में देवी की पूजा की जाती हैं सारे तैयोहार हिन्दू रीति रिवाज से मनाए जाते हैं तो मरने के बाद भी उसी रीति रिवाज से अंतिम संस्कार किया जाना चाहिए और दफन की पुरानी परम्परा को अब यहीं दफन किया जाता है। गांव में बने श्मशान में ही अब नट बिरादरी के मृत व्यक्ति का अंतिम संस्कार हुआ करेगा। जलाए जाने की परम्परा को सही बताते हुए प्रधान ने बताया कि यदि कोई व्यक्ति किसी गंभीर बीमारी से मरता है तो दफनाने से उसके अंदर की बीमारी जमीन के अंदर रहती है जो लोगों को लग सकती है।लेकिन जलाए जाने के बाद सभी तरह की बीमारियां नष्ट हो जाती हैं इसलिए अब नट समाज में भी अग्नि के माध्यम से अंतिम संस्कार किया जाएगा। फिलहाल इस पंचायत में मौजूद नट समाज के क्या पुरुष,क्या महिलाएं सभी ने निर्णय कर लिया है !
अब दफन नहीं होंगे !
जयपाल(नट समाज मुखिया)
महेंद्र सिंह रंधावा(प्रधान पति पंचायत का मुखिया
मुरादाबाद:-संबाददाता कुलदीप सिंह