ALL उत्तर प्रदेश बिहार मध्य प्रदेश लेख कहानी कविता अन्य खबरें न्युज दशहरा व दिवाली विशेष
कभी तो
September 19, 2020 • Brajesh Kumar Mourya • कविता
तुम ख्वाहिश हो मेरी 
कभी तो मुझे मिला करो।
तुम दुआ हो मेरी 
कभी तो कबूल हुआ करो।
तुम मोहब्बत हो मेरी
कभी तो पूरी हुआ करो।
तुम जहान हो मेरा
कभी तो मुझ पर 
मर मिटा करो।
तुम धड़कन हो मेरी
कभी तो मेरे
दहकते दिल में धड़का करो।
तुम सांस हो मेरी 
कभी तो जीने की 
ख्वाहिश से
मुझ में आया करो।
तुम इश्क हो मेरा
कभी तो तुम
मोहब्बत के बहाने 
मेरे शहर में आया करो।
तुम चाहत हो मेरी
कभी तो मेरे 
अनाहत द्वार को छुआ करो।