ALL उत्तर प्रदेश बिहार मध्य प्रदेश लेख कहानी कविता अन्य खबरें न्युज दशहरा व दिवाली विशेष
जानवर बचेंगे तभी देश बचेगा : करुणा शर्मा
May 25, 2020 • Brajesh Kumar Mourya • उत्तर प्रदेश

मुरादाबाद दैनिक अयोध्या टाइम्स

मुरादाबाद:- पशु-पक्षियों के लिए पिछले कई वर्षों से लंबी लड़ाई लड़ने वाली करुणा शर्मा  2003 से भारतीय  राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस इंटेक मैं भी मजदूरों के लिए लड़ाई लड़ी है जैसा नाम बेसा ही काम करती है और हमेशा गरीबों की मदद की है आज भी उन्होंने मुरादाबाद में 50 से अधिक गरीव लोगो की मदद की बेसे तो मुरादाबाद में  वैसे तो लोग सावन के महीने में पंडाल लगाकर लोगों को खाना बांटने का काम करते हैं अब हमारे देश में  ऐसी विपदा आ गई है लोगों को भूखा सोना पड़ रहा है अब बोलो कहां गए जो लोग पंडाल लगाकर लोगों को खाना खिलाते थे जबकि ऐसी मुसीबत की घड़ी में सामने आने की वजह लोग अपने घर में ही बैठे हैं लेकिन लोगों को अब सोचना होगा की गरीब लोगों की मदद करने के लिए आगे आना है जितना भी कहे उनके लिए कम  है और अब उन्होंने जानवरों को बचाने का बीड़ा उठाया है लंबे अरसे से समाज सेवा करती आ रही हैं   उन्होंने ने कहा जानवर बचेंगे तो ही देश बचेगा। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने आगे कहा कि, “काकरोच हो या कुत्ते हमारी खाद्य श्रृंखला की एक महत्वपूर्ण कड़ी है। अगर ये श्रृंखला ही खत्म हो जाएगी तो, जिस तरह इंग्लैंड में कुत्तों को मारने से फैली प्लेग बीमारी से लाखों का खर्चा हुआ वैसे ही हमारे देश को लोगों के स्वास्थ्य पर करोड़ों-अरबों रुपए खर्च करने पड़ेंगे।”
बही करुणा शर्मा ने कहा-“जैव विविधता को बचाने के लिए वैश्विक स्तर पर वनस्पतियों के साथ-साथ जीव-जंतुओं की प्रजातियों का संरक्षण करना बेहद जरुरी है क्लोफेनेक गिद्धों की मौत का सबसे बड़ा कारण। है उन्हें अनदेखा करना इसी समस्या से आहत होकर आज बैठक कर  पशु पक्षियों को बचाने की बात कही
मुरादाबाद स्थित डियर पार्क में पशु पक्षियों को भूखा तड़फता देख उनकी आंखों में पानी आ गया और उन्होंने इस जंग को बहुत ही कठिन बताया है और उन्होंने कहा है कि हम सबको एक होकर इस लड़ाई को लड़ना होगा क्योंकि अकेला आदमी कमजोर पड़ता है अगर सब एक साथ होकर इस लड़ाई में मेरा साथ देंगे तो मैं मुरादाबाद ही नहीं देश के सभी पशु पक्षियों को बचाने का प्रयास करूंगी और अपनी संस्था के माध्यम से इस शिकायत को अधिकारियों तक पहुंच आऊंगी
मुरादाबाद ब्यूरो रिपोर्ट दिव्या कश्यप