ALL उत्तर प्रदेश बिहार मध्य प्रदेश लेख कहानी कविता अन्य खबरें न्युज
हाइकु 
September 15, 2020 • Brajesh Kumar Mourya • कविता
हिंदी में बिन्दी 
श्रृंगार में मेहंदी    
भाषा की स्कंदी |१|
 
                                है आर्यभाषा 
                                आत्मा की परिभाषा 
                                मिटे निराशा |२|
 
धर्म आधार 
उपदेश प्रचार  
मिले संस्कार |३|
 
                              छदं से अलंकृत 
                              रिश्ता संस्कृत 
                              है ज्ञान कृत |४|
 
ढोलक वजी  
संगीत से है सजी 
आदर में जी |५|
 
                             भाषा लहर  
                             राष्ट्र की धरोहर 
                             है मनोहर |६|
देश की शक्ति 
सहज अभिव्यक्ति 
मातृत्व भक्ति |७|
 
 
                             है अभिमान 
                             हिन्दुस्तान की शान  
                             बढाती मान |८|
 
पूर्व सैनिक 
प्रमोद कुमार चौहान