ALL उत्तर प्रदेश बिहार मध्य प्रदेश लेख कहानी कविता अन्य खबरें न्युज
अपने बिछाये जाल में फँसने को मजबूर चीन
May 20, 2020 • Brajesh Kumar Mourya • लेख
विश्व स्वास्थ्य सभा में करोना जाँच के लिए रिजोलुशन पास होने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन से करोना की जांच के लिए राजी होने से अब wHO  वायरस की  प्रारंभिक उत्पत्ति का पता लगाएगा। चीन के लिए एक ब्रजपात के समान है। इस कदम का भारत सहित दुनियां के अधिकांश देश ने भी समर्थन किया है। अब इसे नकारा नही जा सकता न चाहते हुए भी चीन को जाँच में मजबूरन सहयोग करना होगा । पक्षपात का आरोप विश्व स्वास्थ्य संगठन के अधिकारियो पर भी लगा है इस रिजोलुशन में उसकी भी जाँच कराये जाने का प्रस्ताव पास हुआ है जो चीन और who  के अधिकारियो के लिए मुश्किलो का सफर होगा।
दुनिया में लगभग 47-50  लाख मरीज तकरीबन 3▪25  लाख मौतें ने दुनिया को स्तब्ध कर दिया है जबकि,  चीन के चेहरे पर तनिक भी अफसोस नहीं यह सोचने को मजबूर करती है। जहां मानव जीवन पल पल आगोश में जा रही है वही चीन अपना प्रोडक्ट दुनिया को बेचकर सहानुभूति बटोरना चाहता है।अब प्रायः सभी देश उसके मंसूबो से वाकिफ हो चुके हैं।
भारत ने अपने इरादे स्पष्ट कर दिये हैं और प्रधानमंत्री का वह सम्बोधन जिसमें भारतीय प्रोडक्ट पर जोर देने की बात कही गयी वह चीन के लिए एक करारा तमाचा है जो उसे जोरो की लगी जिसकी वौखलाहट सरहद पर सैनिको की झड़प और हेलीकाप्टर की उड़ाने जो वोर्डर रूल का उल्लंघन करती नजर आयी है। सीमा पर भी तनाव है। आने वाले समय में वह एक रूपये का भी बाजार भारत में नही कर पाये ऐसा भारत सरकार की योजना होनी ही चाहिए साथ ही साथ हम भारतीयों की भी सोच होनी चाहिए।
इसी सोच के अनुरूप दुनिया के देश भी सोचने लगे हैं और जाँच करने की माँग की है।इस सोच में और इजाफा होने वाला है।अब तक के जीतने रिपोर्ट बनी है सबकी निगाह बुहान लैब पर जाकर रूक जाती है और शक के घने बादल उसी लैब में बरसने लगते है। जिससे चीन की धड़कन बढ़ना लाजिमी है।अब आने वाले वक्तो में यह देखना दिलचस्प होगा कि जाँच में वह कितना सहयोग करता है या सिर्फ  दिखावा।वैसे दिखावा के चांसेज ज्यादा हैं क्योंकि वह किसी भी सूरत में नहीं चाहेगा कि उसके लैब में किसी तरह की जांच हो और वहाँ की सीक्रेट बाहर जाय।लेकिन दूसरा पहलू यह भी है कि यह किसी एक देश का मसला नही है। वह चाहकर भी जाँच को रोक नही सकता क्योंकि ऐसा करने पर विश्व समुदाय का बैरी बन जाएगा।
दुनिया भर से मिली अबतक के रिपोर्ट के अनुसार करोना की उत्पत्ति चीन की बुहान शहर से हुई है क्योंकि पहला मरीज वही नवम्बर 19 में मिला फिर देखते ही देखते पूरे वुहान शहर को अपनी चपेट में ले लिया गौर करने वाली बात यह है कि चीन के दूसरे शहर के बजाय यह पूरी दुनिया में फैल गयी जो शक पैदा करता है कि यह मानव निर्मित चायनीज वायरस है।ऐसी आशंका भी है कि चीन ने मृतको के आंकड़े दुनिया से छिपाये है जो जाँच के बाद सामने आ सकती है।
भारत एक घनी आबादी वाला देश जहाँ विविधता है और एक विस्तृत बाजार है जो आज दो महीने से पूर्ण बंद है ।सभी घरो में कैद है ।लगातार लोग अनेक परेशानियाँ झेल रहे हैं।इसी तरह की परेशानी वो तमाम देश झेल रहे जहां यह वायरस है ।दरअसल इसी परेशानीयों का फायदा चीन उठाना चाहता है ।भारत सरकार तथा दुनिया को चाहिये की वह इस देश का पूर्ण वाहिष्कार करें ताकि उसका खुद का आर्थिक लाँकडाउन हो ।
भारत के लोग कमर कस चुके है अब दुनिया भी स्थिति को समझ रही है यही कारण है कि अमेरिका और दुनिया के प्रभावित मुल्क ने चीन के प्रति कडा रूख अपनाया है और कोरोना उत्पत्ति की जाँच हो ऐसे प्रस्ताव विश्व हेल्थ सभा में आयी जो अब इसकी जाँच करेगी। जाँच के साथ ही चीन की मुश्किलें बढ़ सकती है और आने वाले कुछ समय दुनिया भी इसे बरकरार रखखर इस जैविक युद्ध के साथ चीन से आर्थिक युद्ध लड़ेगी।
 
                                 आशुतोष
                               पटना बिहार